*मस्जिद की देखरेख कर रहा एक हिन्दु परिवार*- शिबली रामपुरी की खास रिपोर्ट

*मस्जिद की देखरेख कर रहा एक हिन्दु परिवार*- शिबली रामपुरी की खास रिपोर्ट

*गांव में मुस्लिम परिवार न होने से 25 वर्षों से मस्जिद की देखरेख में जुटे रामबीर कश्यप ने पेश की साम्प्रदायिक सौहार्द की नज़ीर*
*पांच वर्ष पूर्व जब क्षेत्र साम्प्रदायिकता के आग में झुलस रहा था, वहीं एक मस्जिद की रक्षा के लिए गाँव के हिन्दू परिवार ही पहरेदार बन गये थे। प्राचीन मस्जिद को सुरक्षा प्रदान करने वालें हिन्दू परिवार पांच वर्ष पूर्व की घटना को याद कर आज भी सिहर जा रहे हैं। वहीं एक रामबीर कश्यप पिछले 25 वर्षों से गांव की वीरान हो चुकी मस्जिद की साफ़ सफाई कर उसका केयर टेकर बना हुआ है*
*मुज़फ्फरनगर ज़िला मुख्यालय से 18 km दूर भोपा क्षेत्र के गाँव नन्हेडा की आबादी लगभग 3500 है। जाट बाहुल्य इस गांव में 120 वर्ष पुरानी मस्जिद स्थित है। जिसकी देखरेख फिलहाल रामवीर कश्यप पुत्र जामल कश्यप के हाथों में है। रामवीर प्रतिदिन मस्जिद में झाडू लगाकर साफ सफाई करता है तथा प्रतिवर्ष ईद के मौके पर व्हाइट वाश भी करवाता है। रामबीर कश्यप ने बताया कि ब्रिटिश काल में गांव में मुस्लिम परिवार काफी संख्या में रहते थे। समय अन्तराल पर मुस्लिम परिवार गांव से पलायन करते गये। और गांव धीरे धीरे मुस्लिमविहीन हो गया गाँव की प्राचीन मस्जिद भी वीरान हो गयी। प्राचीन धार्मिक स्थल की पवित्रता की ख़ातिर मस्जिद की साफ सफाई कर उन्होने पुनः मस्जिद का जीर्णोद्धार किया* 
*2013 में साम्प्रदायिक दंगे के दौरान  बराबर में स्थित गांव बसेडा में एक हिन्दू व्यक्ति दंगे का शिकार हो गया, जिससे नन्हेडा के ग्रामीणों में शंका व्याप्त हो गयी कि रात्रि में कभी भी बसेडा गांव के हिन्दू बड़ी संख्या में एकत्र हो कर मस्जिद को तोड देने के लिए निकल पड़ेंगे  इसी आशंका को लेकर नन्हेडा के हिन्दू परिवारों ने रातों को जागकर मस्जिद के चारों ओर पहरा लगाया। ग्रामीण नहीं चाहते थे कि उनके आश्रय में स्थित दूसरे धर्म के धार्मिक स्थल को कोई क्षति पहुंचे तथा गांव पर साम्प्रदायिकता का कोई दाग लगे* 
*रामबीर कश्यप गुरू राम रहीम के अनुयायी हैं तथा सभी धर्मों की मान्यताओं का आदर करने में विश्वास रखते हैं। जिस कारण उनके परिवार में सुख शान्ति बनी हुई है। ईश्वर की विशेष कृपा उनके परिवार पर है। इंसानियत और भाईचारे, मानव सेवा व सर्वधर्म सम्भाव को अपना आदर्श मानने वाले रामवीर कश्यप वीरान मस्जिद की दीवारों में बने दीपक जलाने के स्थानों में  प्रतिदिन मोमबत्ती जलाकर खुदा के घर मे रोशनी करते हैं तथा अगरबत्ती जलाकर प्रेम सुगन्ध बिखेरने के साथ साथ प्रेम का संदेश भी दे रहे हैं …..✍

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *