ARTICLES

बाबा साहेब डॉ अम्बेडकर के परिनिर्वाण दिवस पर पत्रकार दीपक मौर्य का विशेष आलेख- बाबा साहेब के विचारों की नहीं केवल राजनीति के लिए उनके नाम की जरूरत

 देश के 90 प्रतिशत लोग तथा 100 प्रतिशत राजनैतिक दल बाबा साहेब का परिनिर्वाण दिवस मना रहें है पर क्या

Read more

क्या नेहरू ने सुभाष, पटेल एवं अंबेडकर का अपमान किया था?— आजादी के आंदोलन के दौरान सुभाष बोस और नेहरू के बीच जबरदस्त वैचारिक समानता थी। दोनों की लोकतंत्र, समाजवाद और धर्मनिरपेक्षता के आदर्शों में आस्था थी। यह बात अनेक किताबों में दर्ज है।

एल.एस. हरदेनिया नेहरू और पटेल के बीच मतभेद थे और नेहरू पटेल का सम्मान नहीं करते थे इस गलत कथन

Read more

बाबरी ध्वंस : न्यायपूर्ण समाधान आवश्यक- राम पुनियानी का खास लेख- चुनाव के ठीक पहले, अयोध्या मुद्दे का उभरना दुर्भाग्यपूर्ण है। इसका अर्थ है कि चुनावों में हम आम लोगों की मूलभूत समस्याओं के बदले मस्जिद और मंदिर पर चर्चा करेंगे।

राम पुनियानी हमें आज अपराधियों को सजा देने और समस्या को विधि सम्मत तरीके से सुलझाने की जरूरत है। न्याय

Read more

महागठबंधन पर सियासत, आज कांगे्रस के लिए सबसे बडी जिम्मेंदारी आगामी लोकसभा चुनाव में एक मजबूत महागठबंधन तैयार करने की हैं।

शिबली रामपुरी कंाग्रेस की राह आगामी लोकसभा चुनाव से पहले ही कठिन होती नजर आ रही है। जिस तरह से

Read more

काठगोदाम निवासी सामाजिक कार्यकर्ता इस्लाम हुसैन ने पॉलीथिन के खतरों को बहुत पहले ही भाप लिया था, उनके कार्यों को देखते हुए कुमाऊं विश्वविद्यालय में उनपर हुआ है शोघ कार्य

काठगोदाम निवासी सामाजिक कार्यकर्ता इस्लाम हुसैन ने पॉलीथिन के खतरों को बहुत पहले ही भाप लिया था जब ही तो

Read more

तलाक पर अध्यादेश मुस्लिम महिलाओं से हमदर्दी या सियासत—- ट्रिपल तलाक के मुददे पर शिबली रामपुरी का तफसीली मज़मून

शिबली रामपुरी मोदी सरकार की ओर से तीन तलाक पर जिस अध्यादेश को मंजूरी दी गई है। उसे सरकार की

Read more

कत्ल.ए.हुसैन अस्ल में मर्ग.ए.यजीद है। इस्लाम जिंदा होता है हर करबला के बाद——– वाकिया-ए-करबला पर आरिफ नियाज़ी का तफसीली मज़मून

मोहर्रम इस्लामिक कैलेंडर के पहले महीने का नाम है। इसी महीने से इस्लाम का नया साल शुरू होता है। इस

Read more

हां में मंगलौर हूं।—haan men manglour hun की किस्त-05, जिस में क़ारी नसीम मंगलौरी द्वारा मंगलौर में बसी बिरादरियों में से कुछ का इतिहास बताने की कोशिश की गई है।

हां में मंगलौर हूं। किस्त-05 क़ारी नसीम मंगलौरी इतिहास अतीत का दर्पन होता है। अपने भविष्य को खूबसूरत बनाये रखने

Read more