Breaking
Fri. Jun 14th, 2024

Ramoji Rao: मीडिया के दिग्गज रामोजी राव का 87 साल की उम्र में निधन

Ramoji Rao: एक मीडिया मुगल की विरासत

परिचय

भारत में मीडिया परिदृश्य, विशेष रूप से तेलुगु भाषी क्षेत्रों में, Ramoji Rao के गहन प्रभाव के बिना बहुत अलग होता। अपने अभिनव योगदान और उत्कृष्टता की निरंतर खोज के लिए जाने जाने वाले, रामोजी राव ने मीडिया और मनोरंजन उद्योग को बदल दिया। आज, जब हम उनकी विरासत को याद करते हैं, तो हम एक ऐसे दूरदर्शी के निधन को भी स्वीकार करते हैं, जिसने समाचार और मनोरंजन को देखने के हमारे तरीके को बदल दिया। रामोजी राव ने हृदय संबंधी समस्याओं के उपचार के दौरान अंतिम सांस ली, जो एक युग का अंत था।

Ramoji Rao

 

प्रारंभिक जीवन और पृष्ठभूमि

Ramoji Rao का जन्म 18 नवंबर, 1936 को कृष्णा जिले के पेड्डापरुपुडी में एक मामूली किसान परिवार में हुआ था। उनका जन्म का नाम रामैया था, जो उनके माता-पिता वेंकट सुब्बाराव और वेंकटसुब्बम्मा ने दिया था। परिवार की उत्पत्ति पाल्मेरू मंडल के पेरीशेपल्ली गाँव से हुई, लेकिन वे रामोजी राव के जन्म से पहले पेड्डापरुपुडी चले गए। उनका बचपन श्री वैष्णव परिवार के मूल्यों में डूबा हुआ था, जो उनकी धर्मपरायण माँ से काफी प्रभावित था। इस पवित्र परवरिश के बावजूद, रामोजी ने युवा लड़कों की तरह ही शरारती स्वभाव दिखाया। उनकी प्रारंभिक शिक्षा गुडीवाड़ा में पूरी हुई, जहाँ उन्होंने व्यवसाय में भी गहरी रुचि विकसित की।

 

व्यवसाय में प्रवेश

रामोजी राव की व्यावसायिक सूझबूझ बहुत पहले ही स्पष्ट हो गई थी। 1962 में, उन्होंने मार्गदर्शक चिट फंड की स्थापना की, जो व्यवसाय की दुनिया में उनका पहला कदम था। इस उद्यम ने उनके भविष्य के उद्यमों की नींव रखी, जिसमें अवसरों को पहचानने और उन्हें भुनाने की उनकी क्षमता का प्रदर्शन किया गया।

 

मीडिया उद्यम

रामोजी राव का मीडिया क्षेत्र में प्रवेश 1969 में अन्नदाता के शुभारंभ के साथ शुरू हुआ, जो कृषि पर केंद्रित एक पत्रिका थी। हालाँकि, 10 अगस्त, 1974 को ईनाडु दैनिक की शुरुआत ने वास्तव में मीडिया में उनकी सफलता को चिह्नित किया। ईनाडु, जिसका तेलुगु में अर्थ है “आज”, जल्दी ही एक घरेलू नाम बन गया, जो अपने व्यापक और समय पर समाचार कवरेज के लिए जाना जाता है।

 

ईनाडु का उदय

ईनाडु ने पत्रकारिता में कई नवीन पद्धतियों की शुरुआत की, जिसमें योगदान प्रणाली भी शामिल है, जो भारत में पहली बार थी। इस प्रणाली ने अखबार को विभिन्न योगदानकर्ताओं से समाचार प्राप्त करने की अनुमति दी, जिससे क्षेत्रीय मुद्दों पर व्यापक दृष्टिकोण और गहन कवरेज सुनिश्चित हुआ। रामोजी राव के नेतृत्व में, ईनाडु ने तेजी से विकास किया, तेलुगु भाषी राज्यों में अग्रणी समाचार पत्र बन गया और क्षेत्रीय पत्रकारिता में नए मानक स्थापित किए।

 

फिल्म उद्योग में योगदान

रामोजी राव का प्रभाव प्रिंट मीडिया से आगे बढ़कर फिल्म उद्योग में भी फैला। उन्होंने उषाकिरण मूवीज की स्थापना की, जिसने कई सफल और समीक्षकों द्वारा प्रशंसित फिल्में बनाईं। कुछ उल्लेखनीय प्रस्तुतियों में “प्रतिघातन”, “मौनपोरथम”, “जजमेंट”, “मयूरी” और “कंचना गंगा” शामिल हैं। इन फिल्मों ने न केवल रामोजी की कहानी कहने की कला को प्रदर्शित किया, बल्कि मामूली बजट पर गुणवत्तापूर्ण सिनेमा बनाने के प्रति उनकी प्रतिबद्धता को भी प्रदर्शित किया।

 

रामोजी फिल्म सिटी

रामोजी राव की सबसे महत्वाकांक्षी परियोजनाओं में से एक हैदराबाद के पास एक विशाल फिल्म स्टूडियो परिसर, रामोजी फिल्म सिटी का निर्माण था। 1991 में लॉन्च किया गया, यह दुनिया का सबसे बड़ा फिल्म स्टूडियो परिसर होने का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड रखता है। रामोजी फिल्म सिटी एक महत्वपूर्ण पर्यटक आकर्षण और फिल्म निर्माण का केंद्र बन गया है, जो अत्याधुनिक सुविधाओं और सुंदर स्थानों की पेशकश करता है।

 

पुरस्कार और मान्यताएँ

रामोजी राव के योगदान को व्यापक रूप से मान्यता मिली है। 2016 में, उन्हें मीडिया और मनोरंजन के लिए उनकी सेवाओं के लिए भारत के दूसरे सबसे बड़े नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया। यह सम्मान पत्रकारिता और सिनेमा पर उनके प्रभाव का प्रमाण था, जिसने मीडिया मुगल के रूप में उनकी स्थिति को मजबूत किया।

 

परोपकारी प्रयास

अपने व्यावसायिक उपक्रमों से परे, रामोजी राव अपने परोपकारी प्रयासों के लिए भी जाने जाते थे। उन्होंने शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा पर ध्यान केंद्रित करते हुए विभिन्न सामाजिक कार्यों में योगदान दिया। रामोजी फाउंडेशन के माध्यम से, उन्होंने वंचित समुदायों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने के उद्देश्य से कई पहलों का समर्थन किया।

 

नेतृत्व और दूरदर्शिता

रामोजी राव की नेतृत्व शैली की विशेषता व्यावहारिक दृष्टिकोण और भविष्य के लिए एक स्पष्ट दृष्टि थी। उन्हें विवरणों पर सावधानीपूर्वक ध्यान देने और अपनी टीम को उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए प्रेरित करने की उनकी क्षमता के लिए जाना जाता था। उनका दृष्टिकोण एक ऐसा मीडिया साम्राज्य बनाने तक फैला हुआ था जो न केवल व्यावसायिक रूप से सफल था, बल्कि सामाजिक रूप से भी जिम्मेदार था।

 

चुनौतियाँ और विवाद

किसी भी सफल व्यक्ति की तरह, रामोजी राव को भी चुनौतियों और विवादों का सामना करना पड़ा। व्यावसायिक प्रतिद्वंद्विता से लेकर कानूनी लड़ाइयों तक, उन्होंने अपने पूरे करियर में कई बाधाओं का सामना किया। हालाँकि, उनकी लचीलापन और रणनीतिक कौशल ने उन्हें इन चुनौतियों को पार करने और अधिक उपलब्धियों की ओर अपनी यात्रा जारी रखने की अनुमति दी।

 

Ramoji Rao का व्यक्तिगत जीवन

रामोजी राव का व्यक्तिगत जीवन घनिष्ठ पारिवारिक संबंधों और साधारण सुखों से चिह्नित था। वह शादीशुदा थे और उनके बच्चे थे जिन्होंने परिवार की व्यावसायिक विरासत में भी योगदान दिया है। अपने पेशेवर जीवन से बाहर, रामोजी को पढ़ना और प्रकृति में समय बिताना पसंद था, जो उनके जमीनी व्यक्तित्व को दर्शाता है।

 

विरासत और प्रभाव

रामोजी राव की विरासत नवाचार, दृढ़ता और उत्कृष्टता की है मीडिया और मनोरंजन में उनके योगदान ने एक अमिट छाप छोड़ी है, जिसने पत्रकारों, फिल्म निर्माताओं और उद्यमियों की भावी पीढ़ियों को प्रभावित किया है। उनकी कार्य नीति और दूरदर्शी दृष्टिकोण उन लोगों को प्रेरित करता है जो उनके पदचिन्हों पर चलते हैं।

 

Conclusion

Ramoji Rao का निधन कई दशकों तक चली एक उल्लेखनीय यात्रा का अंत है। साधारण शुरुआत से लेकर मीडिया दिग्गज बनने तक, उनकी जीवन कहानी दूरदर्शिता और दृढ़ संकल्प की शक्ति का प्रमाण है। जैसा कि हम उनके योगदान को याद करते हैं और उनके नुकसान पर शोक मनाते हैं, हम उनके द्वारा छोड़ी गई स्थायी विरासत का भी जश्न मनाते हैं।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *