Breaking
Sat. Jun 15th, 2024

“15वीं वर्षगांठ पर श्रद्धांजलि: पीएम मोदी ने 26/11 मुंबई हमले के नायकों को याद किया”

‘मन की बात’ के 107वें संस्करण में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की, जो दुखद घटना की 15वीं बरसी है।

26/11

लचीलेपन पर चिंतन: पीएम मोदी का भावनात्मक स्मरण

‘मन की बात’ सत्र के दौरान, पीएम मोदी ने 26/11 के हमले को “सबसे कायरतापूर्ण आतंकवादी हमला” करार दिया और इस बात पर जोर दिया कि राष्ट्र 26 नवंबर के दुर्भाग्यपूर्ण दिन को कभी नहीं भूल सकता। उन्होंने विशेष रूप से उन बहादुर लोगों को याद किया जिन्होंने अपने जीवन का बलिदान दिया उन्होंने कहा, “आतंकी हमलों से मुंबई और पूरा देश हिल गया था। हालांकि, भारत ने इस घटना से उबरने के लिए अपनी क्षमता का इस्तेमाल किया और अब उसी साहस का इस्तेमाल आतंकवाद को कुचलने के लिए कर रहा है।”

एक राष्ट्र का संकल्प: जयशंकर ने न्याय के लिए चल रही खोज पर प्रकाश डाला

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने हमलों की योजना बनाने और उसे अंजाम देने के लिए जिम्मेदार लोगों को न्याय के दायरे में लाने के लिए भारत की अटूट प्रतिबद्धता पर जोर देते हुए भावनाओं को दोहराया। उन्होंने कहा, “26/11 मुंबई आतंकवादी हमले को आज 15 साल हो गए हैं। इन भयानक कृत्यों की योजना बनाने और उन्हें अंजाम देने के लिए जिम्मेदार लोगों को न्याय के कटघरे में लाने की हमारी कोशिश जारी है।”

द डार्क डेज़: 26/11 मुंबई आतंकी हमलों का पुनर्कथन

26/11 का आतंकवादी हमला, लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) आतंकवादी समूह से जुड़े 10 आतंकवादियों के एक समूह द्वारा किया गया था, जो मुंबई के विभिन्न लोकप्रिय स्थानों पर हुआ था, जिसमें ताज और ओबेरॉय होटल, छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस, नरीमन हाउस में यहूदी केंद्र और लियोपोल्ड कैफे जैसे प्रतिष्ठित स्थल शामिल थे।

लक्षित आतंक:

26 नवंबर, 2008 की रात को शहर में घुसे आतंकवादियों ने यूरोपीय, यहूदियों और भारतीयों द्वारा अक्सर आने-जाने वाले स्थानों को निशाना बनाया। चार दिनों के दौरान, उन्होंने 166 लोगों की जान ले ली और 300 को घायल कर दिया, जिससे भारत की वित्तीय राजधानी पर एक अमिट छाप पड़ी।

न्याय मिला: कसाब को फांसी और शहीदों को श्रद्धांजलि

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस रेलवे स्टेशन पर हुए हमले में एकमात्र जीवित पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद अजमल आमिर कसाब को गिरफ्तार कर लिया गया। मई 2010 में, उसे मौत की सज़ा दी गई, जिसे दो साल बाद पुणे की अधिकतम सुरक्षा वाली जेल में फांसी दे दी गई। आज भी, विभिन्न क्षेत्रों से श्रद्धांजलि अर्पित की जा रही है, महाराष्ट्र के राज्यपाल रमेश बैस और मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने शहीदों के स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित की।

मृतकों का सम्मान: परिवार के सदस्यों और पुलिस अधिकारियों ने श्रद्धांजलि अर्पित की

नवंबर 2008 के हमलों के दौरान अपनी जान गंवाने वाले पुलिस अधिकारियों के परिवार के सदस्यों ने भी दक्षिण मुंबई में पुलिस आयुक्त कार्यालय के परिसर में शहीद स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की। समारोह में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की गंभीर उपस्थिति देखी गई, जिन्होंने कर्तव्य के दौरान किए गए बलिदानों का सम्मान करने की सामूहिक प्रतिबद्धता की पुष्टि की।
जैसा कि भारत 26/11 के मुंबई हमलों की 15वीं बरसी मना रहा है, राष्ट्र उसकी याद में एकजुट है, लचीलेपन की भावना को बनाए रखने और शहीद नायकों के लिए न्याय की खोज जारी रखने की कसम खा रहा है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *