“ऐतिहासिक फैसला: भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने Bilkis Bano मामले में दोषियों की रिहाई को पलट दिया”

Bilkis Bano

घटनाओं के एक महत्वपूर्ण मोड़ में, भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने 2002 में गुजरात में मुस्लिम विरोधी दंगों के दौरान Bilkis Bano के क्रूर सामूहिक बलात्कार के दोषी ग्यारह लोगों की रिहाई को रद्द कर दिया है। दोषियों को वापस जेल भेजने के अदालत के फैसले ने व्यापक ध्यान आकर्षित किया है और इसके दूरगामी प्रभाव होने की उम्मीद है, खासकर गुजरात में, जहां प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को दंगों से निपटने के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा।

The Shocking Release

वे लोग, जो मूल रूप से हिंदू भीड़ का हिस्सा थे, Bilkis Bano पर जघन्य हमले और उसके परिवार के 14 सदस्यों की हत्या के लिए आजीवन कारावास की सजा काट रहे थे। उनकी दोषसिद्धि के बावजूद, उन्हें अगस्त 2022 में रिहा कर दिया गया, जिससे वैश्विक आक्रोश फैल गया और बिलकिस बानो खुद “स्तब्ध और पूरी तरह से स्तब्ध” हो गईं। जस्टिस बीवी नागरत्ना की अगुवाई वाली सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने इस बात पर जोर दिया कि गुजरात सरकार के पास उनकी रिहाई का आदेश देने का अधिकार नहीं है, क्योंकि मुकदमा और सजा पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र में हुई थी।

Bilkis Bano

न्यायालय का फैसला:

न्यायमूर्ति नागरत्ना ने न्याय और कानून के शासन को बनाए रखने के लिए अदालत की प्रतिबद्धता पर जोर देते हुए कहा कि “न्याय में न केवल दोषियों के अधिकार बल्कि पीड़ितों के अधिकार भी शामिल हैं।” फैसले में कहा गया है कि 11 दोषियों को अपनी रिहाई के लिए गुजरात राज्य के समर्थन को चुनौती देते हुए दो सप्ताह के भीतर जेल लौटना होगा।

राजनीतिक प्रभाव:

इस ऐतिहासिक फैसले से राजनीतिक हलचल पैदा होने की आशंका है, खासकर गुजरात में, जहां दंगों के दौरान प्रधानमंत्री मोदी मुख्यमंत्री थे। यह फैसला मोदी सरकार के कार्यों पर सवाल उठाता है, जिसने बलात्कारियों की रिहाई को मंजूरी दी थी। यह मामला मोदी के खिलाफ आलोचना का केंद्र बिंदु रहा है, जिन्होंने लगातार किसी भी गलत काम से इनकार किया है और 2002 के दंगों की घटनाओं के लिए माफी जारी नहीं की है।

विवादास्पद रिलीज़:

राज्य सरकार ने तर्क दिया कि दोषियों की उम्र और जेल में उनके 14 साल के दौरान अच्छे व्यवहार जैसे कारकों के आधार पर रिहाई उचित थी। हालाँकि, संघीय अभियोजकों ने तर्क दिया कि ऐसे “जघन्य, गंभीर और गंभीर” अपराध के लिए उदारता नहीं दिखाई जानी चाहिए। 2022 में रिहा किए गए लोगों के जश्न के तौर पर किए गए स्वागत ने उनकी समय से पहले रिहाई को लेकर विवाद को और हवा दे दी।

Bilkis Bano का संघर्ष:

Bilkis Bano की कठिन परीक्षा 2002 में शुरू हुई जब वह अपने दूसरे बच्चे की मां बनने वाली थीं, उन्हें मुस्लिम विरोधी दंगों के दौरान क्रूर हमले का सामना करना पड़ा। हमलावरों, उसके पड़ोसियों, ने उसके साथ बलात्कार किया और हमला किया, जिसके परिणामस्वरूप उसके चचेरे भाई और उसके नवजात शिशु सहित परिवार के कई सदस्यों की मौत हो गई। न्याय के लिए बिलकिस बानो की लड़ाई को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा, जिनमें पुलिस और राज्य अधिकारियों द्वारा धमकी, सबूतों से छेड़छाड़ और मौत की धमकियाँ शामिल थीं। 2004 में सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप से न्याय की उनकी तलाश में एक महत्वपूर्ण मोड़ आया।

Bilkis Bano मामले में 2002 के दंगों के दोषियों की रिहाई को पलटने का सुप्रीम कोर्ट का फैसला न्याय की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। यह पीड़ितों के अधिकारों को बनाए रखने और कानून का शासन बनाए रखने के महत्व के बारे में एक मजबूत संदेश भेजता है। मामले के राजनीतिक निहितार्थ, विशेष रूप से गुजरात में, 2002 के दंगों के लिए जवाबदेही के आसपास चल रही बातचीत को रेखांकित करते हैं, जिससे यह भारत के कानूनी और राजनीतिक इतिहास में एक महत्वपूर्ण अध्याय बन जाता है।

Leave a comment