Breaking
Fri. Apr 19th, 2024

Braj Ki Holi 2024 कैलेंडर: मथुरा, वृंदावन, बरसाना में 10 दिवसीय होली समारोह की तारीखें

Braj Ki Holi 2024: रंगों और परंपराओं का एक जीवंत उत्सव

Introduction of Braj Ki Holi

रंगों का त्योहार होली पूरे भारत में हर्षोल्लास और हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। हालाँकि, 10 दिवसीय Braj Ki Holi समारोह परंपराओं और जीवंत अनुष्ठानों के अनूठे मिश्रण के लिए जाना जाता है। यह लेख ब्रज की होली की समृद्ध सांस्कृतिक छवि, इसके इतिहास, महत्व और मथुरा, वृंदावन और बरसाना में उत्सवों के कार्यक्रम की खोज करेगा।

Braj Ki Holi

Braj Ki Holi की परंपरा 

होली भारतीयों के दिलों में एक विशेष स्थान रखती है, जिसे पूरे देश में उत्साह और उमंग के साथ मनाया जाता है। हालाँकि, मथुरा, वृन्दावन और बरसाना की पवित्र भूमि में मनाई जाने वाली ब्रज की होली एक विशिष्ट रंगीन और आनंदमय अनुभव प्रदान करती है।

Braj Ki Holi का इतिहास और महत्व

मथुरा, वृन्दावन, बरसाना और नंदगांव सहित ब्रज क्षेत्र, हिंदू पौराणिक कथाओं में डूबा हुआ है, विशेष रूप से भगवान कृष्ण के जीवन और किंवदंतियों से जुड़ा हुआ है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान कृष्ण, जो अपनी शरारती हरकतों के लिए जाने जाते हैं, ने वृन्दावन की गोपियों को छेड़कर रंगों से होली खेलने की परंपरा की शुरुआत की।

Braj Ki Holi 2024 कैलेंडर: उत्सव की तारीखें 

ब्रज की होली का उत्सव 10 दिनों तक चलता है, जो मुख्य त्योहार से पहले शुरू होता है और उसके बाद भी जारी रहता है। आइए ब्रज की होली 2024 के दौरान उत्सव के कार्यक्रम का पता लगाएं:

1. राधा रानी मंदिर, बरसाना में लड्डू होली (17 मार्च)

बरसाना के राधा रानी मंदिर में लड्डू होली के साथ उत्सव की शुरुआत होती है, जहां महिलाएं पुरुषों पर खेल-खेल में लड्डू फेंकती हैं, जो गोपियों द्वारा भगवान कृष्ण को छेड़ने का प्रतीक है।

2. राधा रानी मंदिर, बरसाना में लट्ठमार होली (18 मार्च)

बरसाना की लट्ठमार होली में राधा और गोपियों द्वारा भगवान कृष्ण को लाठियों से पीटने की पौराणिक कहानी दोहराई जाती है। पड़ोसी शहरों, विशेषकर मथुरा के पुरुष, इस अनोखे उत्सव में भाग लेने के लिए बरसाना आते हैं, जबकि महिलाएँ उन पर लाठियों से प्रहार करती हैं।

3. नंदगांव में लट्ठमार होली (19 मार्च)

लठमार होली के दौरान नंदगांव में भी इसी तरह की परंपरा देखी जाती है, जहां बरसाना के पुरुष लाठियों से महिलाओं को छेड़ने के लिए शहर में आते हैं। गोपियों का प्रतिनिधित्व करने वाली महिलाएं, भगवान कृष्ण और गोपियों की चंचल बातचीत को दोहराते हुए, उन्हें लाठियों से खदेड़कर जवाब देती हैं।

4. बांके बिहारी मंदिर, वृन्दावन में फूलवाली होली (20 मार्च)

वृन्दावन के बांके बिहारी मंदिर में फूलवाली होली भगवान कृष्ण और राधा के फूलों के साथ खेलने के मनमोहक क्षणों को दोहराती है। भक्त एकत्रित होते हैं और पुजारी उन पर रंग-बिरंगे फूलों की वर्षा करते हैं, जिससे एक मंत्रमुग्ध कर देने वाला दृश्य उत्पन्न होता है।

Braj Ki Holi

5. गोकुल में छड़ी मार होली (21 मार्च)

गोकुल में मनाई जाने वाली छड़ी मार होली लठमार होली के समान परंपरा का पालन करती है, जहां महिलाएं पुरुषों को छोटी-छोटी लाठियों से पीटती हैं, जो त्योहार की चंचल भावना का प्रतीक है।

6. राधा गोपीनाथ मंदिर, वृन्दावन में विधवा होली (23 मार्च)

वृन्दावन के आश्रमों में रहने वाली विधवाएँ विधवा होली का बेसब्री से इंतजार करती हैं, जहाँ वे एक-दूसरे को रंग लगाकर जीवंत उत्सव में भाग लेती हैं। यह दिन इन महिलाओं के लिए विशेष महत्व रखता है, जो उन्हें खुशी और सौहार्द का क्षण प्रदान करता है।

7. बांके बिहारी मंदिर में होलिका दहन और फूलों की होली (24 मार्च)

होली की पूर्व संध्या को होलिका दहन के रूप में मनाया जाता है, जो बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। भक्त पारंपरिक अलाव देखने और होलिका पर प्रह्लाद की जीत का जश्न मनाने के लिए इकट्ठा होते हैं। इस दिन बांके बिहारी मंदिर में फूलों की होली का उत्सव भी मनाया जाता है, जिससे उत्सव का उत्साह और बढ़ जाता है।

8. मथुरा और वृन्दावन में होली (25 मार्च)

होली के शुभ दिन पर, मथुरा और वृन्दावन जीवंत रंगों और आनंदमय उत्सवों से जीवंत हो उठते हैं। पुजारी भक्तों पर फूलों और केसर जैसे प्राकृतिक पदार्थों से बने रंग छिड़कते हैं, जो देश भर से आगंतुकों को आकर्षित करते हैं।

Also Read :  Nidhivan Vrindavan

9. बलदेव में दाऊजी मंदिर में हुरंगा होली (26 मार्च)

उत्सव का समापन मथुरा के पास दाऊजी मंदिर में हुरंगा होली के साथ होता है, जहां पुरुष और महिलाएं पारंपरिक हुरंगा खेल में शामिल होते हैं। पुरुष महिलाओं पर रंग की बाल्टी डालते हैं, जबकि महिलाएं खेल-खेल में अपनी शर्ट उतार देती हैं, जिससे एक जीवंत और उत्साही माहौल बनता है।

Conclusion: ब्रज की होली की भावना को अपनाना

ब्रज की होली सिर्फ एक त्योहार नहीं है; यह हिंदू पौराणिक कथाओं और परंपरा में गहराई से निहित प्रेम, खुशी और सौहार्द का उत्सव है। जैसे ही हम ब्रज की होली 2024 की तारीखों को चिह्नित करते हैं, आइए हम खुद को जीवंत रंगों और कालातीत परंपराओं में डुबो दें, ब्रज की पवित्र भूमि में इस शुभ अवसर के जादू का अनुभव करें।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *