‘कैप्टन’ Vijayakanth को याद करते हुए: सिल्वर स्क्रीन से राजनीतिक क्षेत्र तक की यात्रा

कैप्टन  Vijayakanth

घटनाओं के एक दुखद मोड़ में, करिश्माई अभिनेता से नेता बने ‘कैप्टन’ Vijayakanth ने 71 साल की उम्र में चेन्नई में कोविड से जूझने के बाद दुनिया को अलविदा कह दिया। यह लेख तमिल फिल्म उद्योग और राजनीति के क्षेत्र दोनों में उनके उल्लेखनीय करियर पर प्रकाश डालते हुए, प्रतिष्ठित व्यक्ति को श्रद्धांजलि अर्पित करता है। विजयकांत, उन कुछ तमिल अभिनेताओं में से एक, जिन्होंने अपना पूरा करियर तमिल सिनेमा को समर्पित कर दिया, ने उद्योग पर एक अमिट छाप छोड़ी। उनकी अधिकांश फिल्में तेलुगु और हिंदी में डब की गईं, जिससे उन्हें फिल्म बिरादरी में “पुरैची कलैगनार” (क्रांतिकारी कलाकार) की उपाधि मिली। देशभक्ति और सामाजिक रूप से जागरूक चरित्रों के चित्रण के लिए प्रसिद्ध, Vijayakanth को कुछ लोगों के शुरुआती प्रतिरोध का सामना करना पड़ा, प्रमुख फिल्म निर्माता सहयोग करने में झिझक रहे थे। हालाँकि, उन्होंने कम बजट की प्रस्तुतियों में एक पुलिस अधिकारी के रूप में 20 से अधिक फिल्मों में अभिनय करके, खुद के लिए एक जगह बनाई, जिसमें गुरुत्वाकर्षण-विरोधी स्टंट दिखाए गए, जो अक्सर अकेले ही विरोधियों से मुकाबला करते थे।

Vijayakanth

 

उनकी फ़िल्में आम तौर पर भ्रष्टाचार, ईमानदारी और न्याय की खोज के विषयों के इर्द-गिर्द घूमती थीं। विजयकांत की अपनी कला के प्रति प्रतिबद्धता स्पष्ट थी क्योंकि वह एक दिन में तीन शिफ्ट में काम करते थे, जो कला के प्रति उनके समर्पण को रेखांकित करता था। विशेष रूप से, उन्होंने खुद को आक्रामक रूप से प्रचारित न करने के लिए एक जानबूझकर दृष्टिकोण अपनाया, जिससे दुनिया को अपनी शर्तों पर अपने काम की खोज करने और प्रेरणा लेने की अनुमति मिल सके।

फिल्म उद्योग में अभिनय करियर की खोज में, विजयकांत ने “राज” नाम छोड़ दिया और “विजयकांत” अपना लिया। एस.ए.चंद्रशेखर द्वारा निर्देशित उनकी पहली फिल्म, “इनिक्कुम इलमई” (1979) ने सफलता की नींव रखी। सफलता 1981 की फ़िल्म “सत्तम ओरु इरुट्टाराई” से मिली, जहाँ उन्होंने चन्द्रशेखर के साथ बड़े पैमाने पर सहयोग किया। 1980 और 1990 के दशक के दौरान, वह एक एक्शन आइकन के रूप में उभरे और लगातार बॉक्स ऑफिस पर अपना दबदबा बनाए रखा।

उनकी सिनेमाई यात्रा का शिखर फिल्म “कैप्टन प्रभाकरन” (1991) के साथ आया, जिसकी सफलता के बाद उन्हें स्थायी उपनाम “कैप्टन” मिला। वित्तीय बाधाओं का सामना करने के बावजूद, विजयकांत ने लगन से काम करना जारी रखा और ऐसी भूमिकाएँ चुनीं जो जनता को प्रभावित करती थीं। उत्पादकों के लिए दीर्घकालिक लाभ के पक्ष में तत्काल वित्तीय लाभ छोड़ने का उनका निर्णय उद्योग के प्रति उनकी प्रतिबद्धता का उदाहरण है।

Vijayakanth की विरासत उनके ऑन-स्क्रीन प्रदर्शन से भी आगे तक फैली हुई है। आक्रामक आत्म-प्रचार से उनके जानबूझकर परहेज ने दर्शकों को उनके काम को व्यवस्थित रूप से खोजने और सराहने की अनुमति दी। तमिल सिनेमा में उनका योगदान न केवल उनकी सिनेमाई उपलब्धियों से, बल्कि न्याय, ईमानदारी और देशभक्ति के लिए खड़े चरित्रों को चित्रित करने के प्रति उनके समर्पण से भी चिह्नित है।

Vijayakanth का प्रारंभिक जीवन और फ़िल्मी करियर

Vijayakanth ने 1979 की फिल्म “इनिक्कुम इलमई” से अपनी अभिनय यात्रा शुरू की। साधारण उपस्थिति के बावजूद, स्क्रीन पर उनकी सशक्त उपस्थिति ने उन्हें जल्द ही दर्शकों के बीच एक प्रिय व्यक्ति बना दिया। उनके फ़िल्मी करियर में महत्वपूर्ण मोड़ 1981 में विजय के पिता एसए चन्द्रशेखर द्वारा निर्देशित “सत्तम ओरु इरुट्टाराई” से आया। नेन्जिले थुनिविरुंथल, नीधि पिझाइथाथु और पट्टानाथु राजक्कल जैसी फिल्मों के लिए एसएसी के साथ उनके सहयोग ने एक बैंकेबल नवागंतुक के रूप में उनकी स्थिति को मजबूत किया।

90 के दशक में, विजयकांत की भूमिकाओं में एक उल्लेखनीय बदलाव आया, जिसमें पुलिस अधिकारियों को चित्रित करने पर ध्यान केंद्रित किया गया। कैप्टन प्रभाकरन (1991), सेतुपति आईपीएस (1994), और मनगारा कावल (1991) जैसी उल्लेखनीय फिल्मों ने उनके सुपरस्टारडम में योगदान दिया, जिससे उन्हें स्थायी उपनाम ‘कैप्टन’ प्राप्त हुआ।

Captain vijayakanth का राजनीतिक परिवर्तन

वर्ष 2005 captain vijayakanth  के लिए एक महत्वपूर्ण परिवर्तन था जब उन्होंने राजनीतिक क्षेत्र में प्रवेश किया। विशेष रूप से सामाजिक और आर्थिक रूप से वंचित समुदायों के बीच अपने प्रशंसक आधार का लाभ उठाते हुए, उन्होंने देसिया मुरपोक्कू द्रविड़ कड़गम (DMDK) की स्थापना की। उनका प्रभाव पारंपरिक सीमाओं से परे बढ़ गया, जिसमें तेलुगु नायडू समुदाय शामिल था, जिससे एक दृढ़ समर्थन आधार तैयार हुआ।

राजनीतिक यात्रा और चुनावी जीत

Vijayakanth  के नेतृत्व में DMK ने 2006 के तमिलनाडु विधानसभा चुनावों में सभी 234 निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव लड़ा। उल्लेखनीय 8% वोट शेयर हासिल करने के बावजूद, वह अपनी पार्टी के एकमात्र विजेता के रूप में उभरे। बाद के वर्षों में पार्टी के प्रदर्शन में उतार-चढ़ाव देखा गया, जिसमें 2009 के लोकसभा चुनावों में 10.3% की अधिकतम वोट हिस्सेदारी थी।

2011 के विधानसभा चुनावों में DMK 7.9% वोट शेयर के साथ दूसरी सबसे बड़ी पार्टी का स्थान हासिल करते हुए अपने शिखर पर पहुंच गई। हालाँकि, इसके बाद मंदी आई, 2014 के लोकसभा चुनावों में प्रभाव और वोट शेयर 5.1% कम हो गए और 2016 के विधानसभा चुनावों में केवल 2.4% रह गए।

2019 का लोकसभा चुनाव DMK के लिए चुनौतीपूर्ण साबित हुआ, उसने AIADMK-NDA गठबंधन के हिस्से के रूप में चार सीटों पर चुनाव लड़ा और सभी निर्वाचन क्षेत्रों में हार का सामना करना पड़ा। इस अवधि के दौरान विजयकांत के स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों ने पार्टी की प्रगति पर काफी प्रभाव डाला।

विरासत और चुनौतियाँ

हाल के वर्षों में स्वास्थ्य चुनौतियों का सामना करने के बावजूद, Vijayakanth पार्टी का चेहरा बने रहे। रैलियों में सक्रिय रूप से शामिल होने में उनकी असमर्थता स्पष्ट थी, जिसके कारण उनकी पत्नी, प्रेमलता और उनके भाई, एलके सुधीश को पार्टी सभाओं की बागडोर संभालनी पड़ी।

स्मरण में, आइए ‘कैप्टन’ Vijayakanth की बहुमुखी यात्रा का जश्न मनाएं – सिल्वर स्क्रीन पर दर्शकों का मनोरंजन करने से लेकर तमिलनाडु की राजनीति के जटिल परिदृश्य को समझने तक। सिनेमाई प्रतिभा और राजनीतिक प्रयासों दोनों से चिह्नित उनकी विरासत, राज्य के सांस्कृतिक और राजनीतिक ताने-बाने पर एक अमिट छाप छोड़ती है।

Leave a comment