Breaking
Sat. Jun 15th, 2024

उत्तर प्रदेश में Halal Products Ban की चुनौती

सुप्रीम कोर्ट ने Halal Products Ban करने, कानूनी जटिलताओं को सुलझाने और राष्ट्रीय स्तर पर धार्मिक प्रथाओं की सुरक्षा करने पर काम किया

हाल के घटनाक्रम में, सुप्रीम कोर्ट ने राज्य के भीतर Halal Products प्रमाणीकरण के साथ खाद्य पदार्थों के भंडारण, वितरण और बिक्री पर रोक लगाने के उत्तर प्रदेश सरकार के फैसले को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर ध्यान दिया है। इस कदम ने एक महत्वपूर्ण कानूनी बहस छेड़ दी है, जिसने हलाल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, जमीयत उलमा-ए-महाराष्ट्र और जमीयत उलमा हलाल फाउंडेशन सर्टिफिकेशन प्राइवेट लिमिटेड जैसी संस्थाओं का ध्यान आकर्षित किया है।

Halal Products

 पृष्ठभूमि और प्रारंभिक अदालती कार्यवाही

न्यायमूर्ति बीआर गवई और न्यायमूर्ति संदीप मेहता की पीठ ने मामले को संबोधित करते हुए शुरू में सुझाव दिया कि याचिकाकर्ता पहले उच्च न्यायालय के माध्यम से कानूनी सहारा तलाशें। न्यायमूर्ति गवई ने प्रतिबंध के संभावित अखिल भारतीय परिणामों पर जोर देते हुए अनुच्छेद 32 (जिसके अंतर्गत  अनुच्छेद 32, जिसे अक्सर “संविधान की धड़कन” कहा जाता है, नागरिकों को सीधे सर्वोच्च न्यायालय से न्याय मांगने का अधिकार देता है। यह एक अभिभावक के रूप में कार्य करता है, जिससे व्यक्तियों को उनके मौलिक अधिकारों की तेजी से रक्षा करने की अनुमति मिलती है। यह संवैधानिक प्रावधान एक शक्तिशाली उपकरण है, जो प्रत्येक नागरिक को अपने अधिकारों का उल्लंघन होने पर उपचार के लिए शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाने में सक्षम बनाता है। अनुच्छेद 32 आशा की किरण के रूप में खड़ा है, न्याय तक पहुंच सुनिश्चित करता है और व्यक्तिगत स्वतंत्रता की सुरक्षा के लिए सर्वोच्च न्यायालय को सबसे आगे रखकर लोकतंत्र के सार को बरकरार रखता है। यह सभी के लिए न्याय की भावना का प्रतीक है, जो इसे हमारी कानूनी प्रणाली का एक मूलभूत स्तंभ बनाता है।) के आह्वान पर सवाल उठाया। अदालत ने इस बात पर जोर दिया कि उच्च न्यायालय ऐसे मामलों पर प्रभावी ढंग से फैसला दे सकता है।

जवाब में, याचिकाकर्ताओं के वकील ने तर्क दिया कि प्रतिबंध क्षेत्रीय सीमाओं को पार करता है, धार्मिक प्रथाओं को प्रभावित करता है और व्यक्तियों को आपराधिक दायित्व के लिए उजागर करता है। इसी तरह की मांगें कर्नाटक और बिहार जैसे अन्य राज्यों में भी सामने आई हैं। वकील ने खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम (FSSA) के तहत प्रतिबंध की अनुपस्थिति पर प्रकाश डाला, अंतर-राज्य व्यापार और वाणिज्य पर राष्ट्रीय प्रभाव पर जोर दिया।

राष्ट्रीय प्रभाव और सार्वजनिक स्वास्थ्य संबंधी चिंताएँ

वकील ने आगे तर्क दिया कि प्रतिबंध का तत्काल प्रभाव व्यापार और वाणिज्य से परे अखिल भारतीय पैमाने पर सार्वजनिक स्वास्थ्य, उपभोक्ता हितों और धार्मिक भावनाओं तक फैला हुआ है। इसने सुप्रीम कोर्ट को उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी करने के लिए प्रेरित किया, जिसमें दो सप्ताह की वापसी योग्य तारीख निर्धारित की गई। इसके अतिरिक्त, याचिकाकर्ताओं को राज्य के स्थायी वकील की सेवा लेने की स्वतंत्रता दी गई।

 याचिका और संवैधानिक चुनौतियों के लिए आधार

हलाल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, जमीयत उलमा-ए-महाराष्ट्र और जमीयत उलमा हलाल फाउंडेशन सर्टिफिकेशन प्राइवेट लिमिटेड द्वारा दायर याचिकाओं में हलाल उत्पादों पर प्रतिबंध लगाने वाली अधिसूचना को रद्द करने की मांग की गई है। उनके तर्क के केंद्र में यह दावा है कि हलाल उत्पादों की पहचान और खपत मुसलमानों के लिए एक संरक्षित गतिविधि है, जो संविधान के अनुच्छेद 26 और 29 में उल्लिखित उनके धार्मिक और व्यक्तिगत कानूनों के अंतर्गत आती है।

याचिकाकर्ताओं का तर्क है कि प्रतिबंध न केवल असंवैधानिक है बल्कि मौलिक अधिकारों का भी उल्लंघन है। प्रतिबंध को चुनौती देने के अलावा, वे निषेधाज्ञा के कथित उल्लंघन के लिए दर्ज आपराधिक मामलों को रद्द करने की मांग करते हैं।

कानूनी प्रतिनिधित्व और आगे का रास्ता

याचिकाएं, वकील सुगंधा आनंद और इजाज मकबूल के कानूनी प्रतिनिधित्व के माध्यम से दायर की गई हैं। जैसे-जैसे कानूनी लड़ाई सामने आती है, यह देखना बाकी है कि सुप्रीम कोर्ट उत्तर प्रदेश में Halal Products पर प्रतिबंध के आसपास के संवैधानिक और कानूनी पहलुओं पर कैसे निर्णय देगा। इस मामले के व्यापक निहितार्थ हैं, जो धार्मिक स्वतंत्रता, व्यापार, वाणिज्य और सार्वजनिक स्वास्थ्य के मामलों को छूते हैं।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *