Breaking
Sat. Jun 15th, 2024

Mufti Salman Azhari की गिरफ़्तारी: विवाद, भाषण और कानूनी घटनाक्रम का खुलासा

नफरत भरे भाषण विवाद के बाद गिरफ्तार मुस्लिम मौलवी Mufti Salman Azhari की शांति की अपील

Introduction

हाल के घटनाक्रम में, इस्लामिक उपदेशक Mufti Salman Azhari को गुजरात के जूनागढ़ में दिए गए एक भड़काऊ भाषण के बाद मुंबई में गिरफ्तार किया गया था। इस गिरफ्तारी के कारण घाटकोपर पुलिस स्टेशन में तनावपूर्ण स्थिति पैदा हो गई, जहां उपदेशक ने अपने समर्थकों को संबोधित किया और उनसे विरोध न करने का आग्रह किया।

Mufti Salman Azhari

गिरफ्तारी और सार्वजनिक आक्रोश

Mufti Salman Azhari की गिरफ्तारी मुंबई पुलिस और गुजरात पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) के संयुक्त अभियान के जरिए की गई। गिरफ्तारी की खबर फैलते ही सैकड़ों समर्थक घाटकोपर पुलिस स्टेशन के बाहर जमा हो गए, जिससे यातायात बाधित हो गया। मुंबई पुलिस ने बाद में भीड़ के खिलाफ उनके कृत्य के लिए मामला दर्ज किया।

मौलवी की थाने से अपील

थाने के भीतर से अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए मुफ्ती सलमान अज़हरी ने अपनी बेगुनाही का दावा करते हुए कहा, “न तो मैं अपराधी हूं, न ही मुझे अपराध करने के लिए यहां लाया गया है।” उन्होंने जांच में सहयोग पर जोर दिया और यदि आवश्यक समझा गया तो गिरफ्तारी के लिए तत्परता व्यक्त की।

आरोप और सह-अभियुक्त

मुफ्ती सलमान अज़हरी और दो अन्य, मोहम्मद यूसुफ मालेक और अजीम हबीब ओडेदरा को भारतीय दंड संहिता की धारा 153बी और 505(2) के तहत आरोपों का सामना करना पड़ा। आरोप धार्मिक समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने और एक समुदाय के खिलाफ अपराध भड़काने के लिए बयान प्रसारित करने से संबंधित थे। मुफ्ती सलमान की गिरफ्तारी से पहले ही सह-आरोपी हिरासत में थे, जिसके कारण गुजरात पुलिस को महाराष्ट्र पुलिस से सहायता लेनी पड़ी।

कानूनी कार्यवाही और जानकारी का अभाव

Mufti Salman Azhari के वकील ने गिरफ्तारी में पारदर्शिता की कमी पर प्रकाश डाला, पुलिस कर्मी अपनी यात्रा के उद्देश्य का खुलासा किए बिना उनके घर पहुंचे। मुफ़्ती सलमान के सहयोग के बावजूद पुलिस की ओर से आरोपों के संबंध में कोई स्पष्ट जानकारी नहीं दी गई.

ट्रांजिट रिमांड और आगे की जांच

गिरफ्तारी के बाद, गुजरात पुलिस ने मुफ्ती सलमान अज़हरी को जूनागढ़ वापस ले जाने के लिए दो दिन की ट्रांजिट रिमांड प्राप्त की। उपदेशक के वकील ने मामले की अस्पष्ट प्रकृति और अधिकारियों द्वारा प्रदान किए गए विशिष्ट विवरण की कमी के बारे में चिंता जताई।

Conclusion

मुफ़्ती सलमान अज़हरी की गिरफ़्तारी से विवाद खड़ा हो गया है और मामले से निपटने पर सवाल खड़े हो गए हैं। जैसे-जैसे कानूनी कार्यवाही सामने आ रही है, स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है, समर्थक मौलवी की रिहाई के लिए रैली कर रहे हैं। पुलिस स्टेशन से मौलवी की अपील पहले से ही विवादास्पद स्थिति में जटिलता की एक परत जोड़ती है, जिससे इस गिरफ्तारी की घटनाओं की बारीकी से जांच करने की प्रेरणा मिलती है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *