Breaking
Thu. Jul 25th, 2024

Shehbaz Sharif का पाकिस्तान के प्रधान मंत्री के रूप में दूसरा कार्यकाल

प्रधान मंत्री के रूप में Shehbaz Sharif का दूसरा कार्यकाल पाकिस्तान में एक परिवर्तनकारी राजनीतिक परिदृश्य का अनावरण करता है

एक महत्वपूर्ण राजनीतिक घटनाक्रम में, विरोध का सामना करने के बावजूद, Shehbaz Sharif ने रविवार को संसद में उल्लेखनीय 201 वोट प्राप्त करके पाकिस्तान के प्रधान मंत्री के रूप में अपना दूसरा कार्यकाल हासिल किया। इस जीत ने पाकिस्तानी राजनीति में एक महत्वपूर्ण क्षण को चिह्नित किया, क्योंकि PML-N नेता विजयी हुए, उन्होंने बिलावल भुट्टो जरदारी की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) के साथ गठबंधन सरकार बनाई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए नेतृत्व के प्रति सद्भावना व्यक्त करते हुए शहबाज शरीफ को बधाई दी।

Shehbaz Sharif

Shehbaz Sharif  की राजनीतिक जीत

Shehbaz Sharif की प्रधान मंत्री पद को पुनः प्राप्त करने की यात्रा चुनौतियों से रहित नहीं थी। विरोध प्रदर्शनों के बीच, उन्होंने संसद में 201 वोटों से जीत हासिल की, जो उनके राजनीतिक कौशल और उनकी पार्टी PML-N से मिले समर्थन का प्रमाण है। PPP के साथ गठबंधन ने उनकी स्थिति को और मजबूत कर दिया और पाकिस्तान में राजनीतिक परिदृश्य ने एक नया मोड़ ले लिया।

अनुमोदन और गठबंधन की गतिशीलता

PML-N प्रमुख नवाज शरीफ के समर्थन ने शहबाज शरीफ की प्रधानमंत्री पद की उम्मीदवारी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सरदार अयाज़ सादिक को राष्ट्रीय असेंबली के अध्यक्ष के रूप में नामित करने के रणनीतिक निर्णय ने एक एकजुट नेतृत्व के लिए पार्टी की प्रतिबद्धता को प्रदर्शित किया। PML-N और PPP के बीच गठबंधन ने एक सहयोगी सरकार के लिए मंच तैयार किया, जिसमें प्रत्येक पार्टी देश के राजनीतिक ढांचे में योगदान देगी।

PML-N-PPP गठबंधन डील

PML-N और PPP के बीच गठबंधन समझौते के हिस्से के रूप में, संतुलित प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करने के लिए प्रमुख पद सौंपे गए थे। नवाज़ शरीफ़ की बेटी मरियम नवाज़ ने पंजाब प्रांत की मुख्यमंत्री की भूमिका निभाई, और देश में इस तरह का पद संभालने वाली पहली महिला के रूप में इतिहास रचा। इसके अतिरिक्त, PPP के वरिष्ठ नेता, पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने गठबंधन की सहयोगात्मक भावना पर जोर देते हुए राष्ट्रपति पद हासिल किया।

ऐतिहासिक मील का पत्थर: मरियम नवाज़ की नियुक्ति

पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री के रूप में मरियम नवाज की नियुक्ति पाकिस्तान के राजनीतिक परिदृश्य में एक ऐतिहासिक मील का पत्थर साबित हुई। नवाज शरीफ के राजनीतिक उत्तराधिकारी के रूप में, 26 फरवरी को उनका शपथ ग्रहण न केवल सत्ता की गतिशीलता में बदलाव का प्रतीक है, बल्कि लिंग संबंधी बाधाओं को भी तोड़ दिया, जिससे वह देश की पहली महिला मुख्यमंत्री बन गईं।

PPP की भूमिका और आसिफ अली जरदारी की अध्यक्षता

गठबंधन समझौते के पालन में, PPP के वरिष्ठ नेता आसिफ अली जरदारी ने नेतृत्व संरचना में एक अनुभवी राजनेता के अनुभव को जोड़ते हुए, राष्ट्रपति पद ग्रहण किया। यह कदम साझा शासन के प्रति प्रतिबद्धता को दर्शाता है और पाकिस्तान के राजनीतिक भविष्य को आकार देने में सर्वसम्मति से संचालित दृष्टिकोण का प्रतिनिधित्व करता है।

चुनाव की गतिशीलता और परिणाम

8 फरवरी को हुए चुनावों ने पाकिस्तान में एक गतिशील राजनीतिक परिदृश्य को प्रदर्शित किया। जबकि इमरान खान की पीटीआई के साथ गठबंधन करने वाले स्वतंत्र उम्मीदवारों ने सबसे अधिक सीटें हासिल कीं, लेकिन वे सरकार बनाने के लिए आवश्यक संसदीय बहुमत से कम रह गए। नवाज शरीफ के नेतृत्व वाली PML-N ने 75 सीटों पर जीत हासिल कर दूसरा स्थान हासिल किया. PPP ने राष्ट्रीय असेंबली में बहुआयामी राजनीतिक प्रतिनिधित्व पर जोर देते हुए 54 सीटें हासिल कीं।

संवैधानिक जनादेश और संसदीय सीटें

पाकिस्तान के संविधान के अनुसार, सरकार बनाने के लिए किसी पार्टी को 266 सदस्यीय राष्ट्रीय असेंबली में लड़ी गई 265 सीटों में से 133 सीटें हासिल करनी होंगी। विभिन्न पार्टियों द्वारा जीती गई सीटों का विस्तृत विवरण राजनीतिक परिदृश्य की जटिल गतिशीलता पर प्रकाश डालता है:

– इमरान खान की PTI के साथ गठबंधन करने वाले निर्दलीय उम्मीदवारों ने 265 में से 93 सीटें जीतीं ।
– PML-N ने 75 सीटों पर जीत हासिल की । 
– PPP को 54 सीटें मिलीं । 
– उर्दू भाषी प्रवासियों का प्रतिनिधित्व करने वाली कराची स्थित MQM-P को 17 सीटें मिलीं ।

Conclusion: पाकिस्तानी राजनीति में एक नया युग

निष्कर्षतः, PPP के सहयोग से पाकिस्तान के प्रधान मंत्री के रूप में Shehbaz Sharif का दूसरा कार्यकाल देश के राजनीतिक परिदृश्य में एक नए युग का प्रतीक है। गठबंधन के रणनीतिक फैसले, मरियम नवाज की ऐतिहासिक नियुक्ति और प्रमुख भूमिकाओं का वितरण समावेशी शासन के प्रति प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है। जैसे-जैसे राष्ट्र इस नए अध्याय की शुरुआत कर रहा है, गठबंधन की गतिशीलता की पेचीदगियां और नेशनल असेंबली में विविध प्रतिनिधित्व पाकिस्तान की उभरती राजनीतिक कहानी की एक जीवंत तस्वीर पेश करता है।

Related Post

One thought on “Shehbaz Sharif का पाकिस्तान के प्रधान मंत्री के रूप में दूसरा कार्यकाल”
  1. I just could not depart your web site prior to suggesting that I really loved the usual info an individual supply in your visitors Is gonna be back regularly to check up on new posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *