Breaking
Sat. Jun 15th, 2024

अयोध्या पर उत्तराखंड के Shankaracharya का विवादास्पद रुख और हिंदुओं पर पीएम मोदी के प्रभाव की प्रशंसा

उत्तराखंड के Shankaracharya  स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद द्वारा PM मोदी की तारीफ 

अयोध्या राम मंदिर विवाद के बीच, उत्तराखंड के Shankaracharya  स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद, जिन्होंने हाल ही में एक अधूरे मंदिर में ‘प्राण-प्रतिष्ठा’ पर सवाल उठाकर बहस छेड़ दी थी, अब प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करके ध्यान आकर्षित कर रहे हैं। Shankaracharya  ने हिंदुओं के बीच आत्म-जागरूकता पैदा करने में पीएम मोदी की भूमिका की प्रशंसा की, उनके फैसलों के सकारात्मक प्रभाव पर जोर दिया, जैसे कि अनुच्छेद 370 को खत्म करना और नागरिकता संशोधन अधिनियम।

Shankaracharya

पीएम मोदी का हिंदू स्वाभिमान पर प्रभाव

राम मंदिर के लिए ‘प्राण-प्रतिष्ठा’ समारोह से एक दिन पहले, Shankaracharya स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने अपने कार्यकाल के दौरान हिंदुओं को अधिक आत्म-जागरूक बनाने में पीएम मोदी के प्रभाव को स्वीकार किया। अपने विवादास्पद बयानों के लिए जाने जाने वाले शंकराचार्य ने स्पष्ट किया कि अधूरे मंदिर में अनुष्ठान आयोजित करने की उनकी हालिया आलोचना के बावजूद, वह पीएम मोदी की प्रशंसा करते हैं और उन्हें एक ऐसे नेता के रूप में देखते हैं जिन्होंने हिंदू समुदाय को मजबूत किया है।

मोदी के फैसलों की तारीफ

पीएम मोदी के समर्थन में, Shankaracharya  ने उन प्रमुख निर्णयों पर प्रकाश डाला, जिन्होंने उनके अनुसार, हिंदुओं के सशक्तिकरण में योगदान दिया है। धारा 370 को ख़त्म करना, नागरिकता संशोधन अधिनियम का कार्यान्वयन और स्वच्छता अभियान के सुचारू कार्यान्वयन को हिंदू हितों के प्रति प्रधान मंत्री की प्रतिबद्धता के उदाहरण के रूप में उद्धृत किया गया। शंकराचार्य की टिप्पणियाँ हिंदू समुदाय को बढ़ावा देने वाली किसी भी पहल के लिए उनके समर्थन को रेखांकित करती हैं।

अयोध्या राम मंदिर पर विवादित बयान

हालाँकि, पीएम मोदी की हालिया प्रशंसा राम मंदिर में ‘प्राण-प्रतिष्ठा’ के संबंध में  Shankaracharya के पहले के विवादास्पद बयान के विपरीत है। उनका तर्क था कि अधूरे मंदिर में यह अनुष्ठान करना धार्मिक ग्रंथों के विरुद्ध है। शंकराचार्य उन चार आध्यात्मिक नेताओं में से एक थे जिन्होंने धार्मिक सिद्धांतों के उल्लंघन की चिंताओं का हवाला देते हुए राम मंदिर उद्घाटन के निमंत्रण को अस्वीकार कर दिया था।

राम मंदिर उद्घाटन को लेकर चिंता

‘प्राण-प्रतिष्ठा’ समारोह पर शंकराचार्य की आपत्ति इस विश्वास पर केंद्रित थी कि किसी मंदिर को पूरा किए बिना उसमें प्राण प्रतिष्ठा करना पवित्र ग्रंथों के विपरीत है। विवाद के कारण अयोध्या ट्रस्ट के साथ चर्चा हुई और उनसे मंदिर के पूरी तरह से निर्माण होने तक उत्सव को स्थगित करने का आग्रह किया गया। शंकराचार्य की आपत्ति राम लला की नई मूर्ति की स्थापना तक भी बढ़ गई, जिससे मौजूदा मूर्ति की स्थिति पर सवाल खड़े हो गए।

राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र प्रमुख को पत्र

जैसे ही राम लला की नई मूर्ति को राम मंदिर के गर्भगृह में जगह मिली, Shankaracharya ने राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के प्रमुख नृत्य गोपाल दास को एक पत्र लिखा। पत्र में राम लला की मौजूदा मूर्ति के भाग्य पर सवाल उठाया गया और पूजनीय देवता की संभावित अनदेखी या अनदेखी के बारे में चिंता जताई गई।

अयोध्या राम मंदिर को लेकर धार्मिक और राजनीतिक गतिशीलता के जटिल जाल में, शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद का दोहरा रुख – पीएम मोदी की सराहना करते हुए ‘प्राण-प्रतिष्ठा’ की आलोचना करना – चल रहे प्रवचन में जटिलता की एक परत जोड़ता है। जैसे-जैसे चर्चाएँ जारी रहती हैं, आध्यात्मिक सिद्धांतों, राजनीतिक गतिशीलता और राम मंदिर के भविष्य के बीच परस्पर संबंध गहन चिंतन का विषय बना हुआ है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *