Breaking
Mon. May 20th, 2024

 तेलुगु सिनेमा के एक दिग्गज अभिनेता Chandra Mohan का कार्डियक अरेस्ट से निधन

घटनाओं के एक दुखद मोड़ में, तेलुगु फिल्म उद्योग ने अपने दिग्गजों में से एक Chandra Mohan को विदाई दी, जिन्होंने 11 नवंबर को हैदराबाद के अपोलो अस्पताल में अंतिम सांस ली। 82 वर्षीय अभिनेता का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया और वह अपने पीछे दशकों की बहुमुखी और प्रभावशाली अदाकारी की विरासत छोड़ गए।

Chandra Mohan

 जीवन और विरासत

प्रसिद्ध तेलुगु अभिनेता चंद्र मोहन ने 1966 में “रंगुला रत्नम” से अपनी सिनेमाई यात्रा शुरू की। अपने शानदार करियर के दौरान, उन्होंने 932 फिल्मों में सिल्वर स्क्रीन पर धूम मचाई और 150 मुख्य भूमिकाओं में अपने अभिनय कौशल का प्रदर्शन किया। उनके योगदान को न केवल दर्शकों ने पहचाना, बल्कि उद्योग जगत में भी सराहना मिली, जिससे उन्हें दो नंदी पुरस्कार और एक फिल्मफेयर पुरस्कार-साउथ मिला।

Chandra Mohan की फिल्मोग्राफी की एक झलक

Chandra Mohan की सिनेमाई यात्रा को ‘सिरिसिरिमुव्वा,’ ‘शंकराभरणम,’ ‘राधाकल्याणम,’ और ‘नाकू पेलम खली’ जैसी फिल्मों में यादगार भूमिकाओं द्वारा चिह्नित किया गया था। विविध किरदारों को चित्रित करने की उनकी क्षमता ने उन्हें पीढ़ियों तक दर्शकों का चहेता बनाया और तेलुगु सिनेमा प्रेमियों के दिलों में एक अमिट छाप छोड़ी।

श्रद्धांजलि अर्पित की गई

चंद्र मोहन के निधन की खबर से तेलुगु फिल्म जगत में शोक की लहर दौड़ गई है। मेगास्टार चिरंजीवी ने गहरा दुख व्यक्त करते हुए ‘प्रणाम खारिदु’ में अपने पहले सहयोग को याद किया, जहां चंद्र मोहन ने मूक भूमिका में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया था। जूनियर एनटीआर ने एक भावुक पोस्ट में अभिनेता की असामयिक मृत्यु को असामयिक बताया और शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की।

समकालीन अभिनेता साई तेज धरम ने चंद्र मोहन के यादगार अभिनय और किरदारों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उनका चेहरा हमें पुरानी यादों में ले जाता है और हमारे चेहरे पर मुस्कान ला देता है। फिल्म लेखक और निर्देशक संपत नंदी ने #गौतम नंदा में चंद्र मोहन के साथ काम करने के अपने समृद्ध अनुभव को साझा किया, जिसमें अभिनेता के जाने से पैदा हुए गहरे खालीपन पर जोर दिया गया। आदि साईकुमार ने Chandra Mohan को वास्तव में एक उल्लेखनीय व्यक्ति के रूप में स्वीकार करते हुए गहरा दुख व्यक्त किया।

स्क्रीन से परे एक विरासत

तेलुगु सिनेमा पर चंद्र मोहन का प्रभाव उनके ऑन-स्क्रीन प्रदर्शन से कहीं आगे तक फैला हुआ है। उनकी बहुमुखी प्रतिभा और कला के प्रति समर्पण ने एक अमिट छाप छोड़ी है, जो अभिनेताओं और फिल्म निर्माताओं की पीढ़ियों को प्रेरित करती है। उनके जाने से पैदा हुआ खालीपन न सिर्फ इंडस्ट्री में बल्कि उनके काम को पसंद करने वाले प्रशंसकों के दिलों में भी महसूस किया जाएगा।

अंतिम विदाई

चंद्र मोहन का अंतिम संस्कार और विदाई 13 नवंबर को हैदराबाद में होने वाली है। जैसा कि तेलुगु फिल्म उद्योग एक दिग्गज के निधन पर शोक मना रहा है, प्रशंसक और सहकर्मी समान रूप से उस व्यक्ति को सम्मान देने के लिए इकट्ठा होंगे जिनका योगदान आंध्र प्रदेश और तेलंगाना की सिनेमाई विरासत का एक अभिन्न अंग बन गया है।

अंत में, तेलुगु सिनेमा की दुनिया में चंद्र मोहन की यात्रा अमर है, जो सेल्युलाइड के फ्रेम और उनकी कला की प्रशंसा करने वालों के दिलों में अंकित है। जैसा कि हम इस सिनेमाई दिग्गज को अलविदा कह रहे हैं, भगवान उनकी आत्मा को शांति दे और उनकी विरासत भारतीय सिनेमा के इतिहास में चमकती रहे।

Related Post

One thought on “Chandra Mohan”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *