Breaking
Fri. Apr 19th, 2024

Subrata Roy

सुब्रत रॉय को याद करते हुए: एक साहसी उद्यमी Subrata Roy की यात्रा

Subrata Roy

INTRODUCTION

मंगलवार को, लखनऊ स्थित सहारा समूह के संस्थापक, सुब्रत रॉय का 75 वर्ष की आयु में निधन हो गया। कंपनी ने पुष्टि की कि मेटास्टैटिक घातकता, उच्च रक्तचाप से संबंधित जटिलताओं के साथ लंबी लड़ाई के बाद रात 10:30 बजे कार्डियोरेस्पिरेटरी अरेस्ट और मधुमेह के कारण उनकी मृत्यु हो गई।

 प्रारंभिक वर्ष और उद्यमशीलता उत्पत्ति

10 जून 1948 को बिहार के अररिया में जन्मे सुब्रत रॉय सहारा ने 1976 में अपनी उद्यमशीलता यात्रा शुरू की। उन्होंने सहारा इंडिया परिवार की नींव रखते हुए एक चिट फंड कंपनी सहारा फाइनेंस के साथ अपना उद्यम शुरू किया। उनके कर्मचारी उन्हें प्यार से सहारा श्री कहकर संबोधित करते थे।

 सहारा इंडिया परिवार का उदय

रॉय की कहानी अमीरों से अमीर बनने की क्लासिक कहानी है, क्योंकि उन्होंने वित्त, आवास, विनिर्माण, विमानन और मीडिया सहित विभिन्न क्षेत्रों में अपने व्यापारिक साम्राज्य का विस्तार किया। न्यूयॉर्क के प्लाजा होटल और लंदन के प्रतिष्ठित ग्रोसवेनर हाउस जैसी प्रतिष्ठित वैश्विक संपत्तियों का मालिक बनकर सहारा समूह सफलता का पर्याय बन गया।

 व्यवसाय से परे एक विरासत

सुब्रत रॉय के नेतृत्व में, सहारा भारतीय क्रिकेट और हॉकी टीमों का एक उल्लेखनीय प्रायोजक बन गया और यहां तक कि फॉर्मूला वन रेसिंग में भी कदम रखा। उनका प्रभाव व्यवसाय से परे फैला और खेल जगत पर अमिट छाप छोड़ी।

 कानूनी लड़ाई और विवाद

हालाँकि, जब सहारा बाजार नियामक सेबी के साथ कानूनी विवाद में फंस गया तो उद्यमी को महत्वपूर्ण चुनौतियों का सामना करना पड़ा। यह विवाद अवैध मानी जाने वाली बांड योजना में शामिल निवेशकों को अरबों डॉलर चुकाने पर केंद्रित था। अदालत की अवमानना की सुनवाई में शामिल न होने पर मार्च 2014 में रॉय की गिरफ्तारी ने कानूनी जटिलताओं में एक और परत जोड़ दी। किसी भी गलत काम से इनकार करने के बावजूद, वह 2016 से जमानत पर हैं।

 नेटफ्लिक्स विवाद

2020 में, सुब्रत रॉय और सहारा ने तब ध्यान आकर्षित किया जब उन्होंने नेटफ्लिक्स की श्रृंखला “बैड बॉय बिलियनेयर्स” की रिलीज़ को सफलतापूर्वक रोक दिया, जिसमें रॉय अन्य बिजनेस दिग्गजों के बीच थे। कानूनी कदम का उद्देश्य उनकी प्रतिष्ठा को होने वाली संभावित क्षति को रोकना था। हालाँकि, अदालत द्वारा निषेधाज्ञा हटाए जाने के बाद नेटफ्लिक्स ने अंततः शो जारी कर दिया।

 वैश्विक पहचान और सामाजिक जुड़ाव

सुब्रत रॉय ने सहारा समूह को अरबों डॉलर के उद्यम में स्थापित किया, जिससे यह देश के सबसे बड़े नियोक्ताओं में से एक बन गया। व्यवसाय से परे, उन्होंने विविध सामाजिक नेटवर्क का प्रदर्शन करते हुए राजनीति और बॉलीवुड में प्रभावशाली हस्तियों के साथ रिश्ते बनाए।

 निष्कर्ष

सुब्रत रॉय का निधन बिजनेस जगत के एक युग का अंत है। साधारण शुरुआत से लेकर वैश्विक सफलता तक की उनकी यात्रा, उनकी उद्यमशीलता की भावना का प्रमाण है। जबकि कानूनी चुनौतियों और विवादों ने उनकी विरासत को प्रभावित किया, व्यापार परिदृश्य पर रॉय का प्रभाव और खेल और मनोरंजन में उनका योगदान निर्विवाद है। जैसे ही हम इस मनमौजी उद्यमी को विदाई दे रहे हैं, हम उन जटिलताओं पर विचार कर रहे हैं जो अक्सर बड़ी सफलता के साथ आती हैं।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *