Mahua Moitra निष्कासन का खुलासा: 2005 के कैश-फॉर-क्वेरी घोटाले पर एक तुलनात्मक नज़र

About Mahua Moitra

घटनाओं के एक चौंकाने वाले मोड़ में, तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा को आचार समिति की रिपोर्ट की सिफारिशों के बाद 8 दिसंबर को लोकसभा से निष्कासन का सामना करना पड़ा। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने उनके निष्कासन की घोषणा करते हुए उनके आचरण को “अनैतिक और अशोभनीय” करार दिया। इस घटना की तुलना 2005 के कुख्यात कैश-फॉर-क्वेरी घोटाले से की गई है। आइए महुआ मोइत्रा के मामले के विवरण पर गौर करें और 2005 के घोटाले की घटनाओं पर दोबारा गौर करें।

महुआ मोइत्रा का निष्कासन

महुआ मोइत्रा को निष्कासित करने का निर्णय एथिक्स कमेटी की रिपोर्ट से आया, जिसमें उन पर लोकसभा में विशिष्ट प्रश्न उठाने के बदले में पैसे और उपहार लेने का आरोप लगाया गया था। स्पीकर बिड़ला ने यह कहते हुए कि मोइत्रा का आचरण एक सांसद के लिए अनुचित था, उन्हें निचले सदन से निष्कासित करने की घोषणा की। दिलचस्प बात यह है कि सदन में चर्चा के दौरान मोइत्रा को बोलने की अनुमति नहीं दी गई, जिसके चलते उन्हें लोकसभा के बाहर अपना बयान पढ़ना पड़ा। जवाब में, उसने दावा किया कि आचार समिति ने स्थापित नियमों का उल्लंघन किया है।

Mahua Moitra

2005 कैश-फॉर-क्वेरी घोटाला: ऑपरेशन दुर्योधन

घोटाले का खुलासा

प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार के सत्ता संभालने के एक साल बाद, कोबरापोस्ट नामक एक डिजिटल समाचार पोर्टल ने “ऑपरेशन दुर्योधन” नामक एक स्टिंग ऑपरेशन किया। दिसंबर 2005 में सामने आए इस ऑपरेशन ने 11 संसद सदस्यों को बेनकाब कर दिया, जो कथित तौर पर वित्तीय लाभ के बदले में एक कंपनी को बढ़ावा देने और सदन में सवाल उठाने के इच्छुक थे।

 स्टिंग ऑपरेशन का विवरण

कोबरापोस्ट ने दावा किया कि ऑपरेशन आठ महीने तक चला, जिसके परिणामस्वरूप 56 वीडियो, 70 ऑडियो टेप और 900 फोन कॉल आए। स्टिंग में फंसे सांसदों में बीजेपी के छह, बीएसपी के तीन और राजद और कांग्रेस पार्टी के एक-एक सांसद शामिल हैं. इसमें शामिल बीजेपी सांसद छत्रपाल सिंह लोढ़ा, अन्ना साहेब एम.के. पाटिल, चंद्र प्रताप सिंह, प्रदीप गांधी, सुरेश चंदेल और वाई.जी. महाजन. अन्य फंसे हुए सांसद नरेंद्र कुमार कुशवाहा, लाल चंद्र कोल, राजा राम पाल, मनोज कुमार (राजद), और राम सेवक सिंह (कांग्रेस) थे।

 सुप्रीम कोर्ट ने निष्कासन को बरकरार रखा

रहस्योद्घाटन के बाद, निष्कासित सांसदों ने सुप्रीम कोर्ट में अपने निष्कासन का विरोध किया। 2007 में एक महत्वपूर्ण फैसले में, भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने उनके निष्कासन को बरकरार रखा। यह देश के राजनीतिक इतिहास में एक महत्वपूर्ण क्षण था, जिसने संसदीय प्रणाली के भीतर नैतिक उल्लंघनों की गंभीरता पर जोर दिया।

एक तुलनात्मक विश्लेषण

 निशिकांत दुबे का नजरिया

1 नवंबर को, भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने टिप्पणी की कि महुआ मोइत्रा के खिलाफ आरोप 2005 के कैश-फॉर-क्वेरी घोटाले से भी अधिक गंभीर हैं। यह नैतिक उल्लंघनों की कथित गंभीरता और राजनीतिक परिदृश्य के भीतर विकसित मानकों के बारे में सवाल उठाता है।

 आचार समिति की कार्यवाही

जबकि मोइत्रा का निष्कासन एथिक्स कमेटी की रिपोर्ट पर आधारित था, निष्पक्षता और स्थापित नियमों का पालन सुनिश्चित करने के लिए ऐसी समितियों की कार्यवाही और पारदर्शिता की जांच करना महत्वपूर्ण है।

महुआ मोइत्रा के लोकसभा से निष्कासन ने 2005 के कैश-फॉर-क्वेरी घोटाले की याद ताजा कर दी है। जैसे-जैसे हम राजनीतिक पेचीदगियों के इन जटिल जालों से गुजरते हैं, भारतीय राजनीति में नैतिक मानकों के विकास पर विचार करना अनिवार्य हो जाता है। तुलनात्मक विश्लेषण लोकतांत्रिक प्रक्रिया की अखंडता को बनाए रखने में संसदीय निकायों के सामने आने वाली चुनौतियों पर प्रकाश डालता है।

Leave a comment